Ambaji Mandir

ॐ जय जगदीश हरे  

 

ॐ  जय  जगदीश  हरे  | स्वामी  जय  जगदीश  हरे
 भक्त  जानो  के  संकट  | दास  जानो  के  संकट
 क्षण  में  दूर  करे  | ॐ  जय  जगदीश  हरे

जो  ध्यावे  फल  पावे  | दुःख  बिन  से  मन  का 
 स्वामी  दुःख  बिन  से  मन  का  | सुख  सम्पति  घर  आवे 
 सुख  सम्पति  घर  आवे  | कष्ट  मिटे  तन  का
 ॐ  जय  जगदीश  हरे
मात  पिटा तुम  मेरे  | शरण  परूँ  मैं  किसकी 
 स्वामी  शरर्ण परूँ  मैं  किसकी  | तुम  बिन  और  न  दूजा 
 प्रभु  बिन  और  न  दूजा  | आस  करून  मैं  जिसकी 
 ॐ  जय  जगदीश  हरे

तुम  पूरण परमात्मा  | तुम  अंतर्यामी 
 स्वामी  तुम  अंतर्यामी    | पर  ब्रह्म  परमेश्वर 
 पर  ब्रह्म  परमेश्वर  |तुम  सबके  स्वामी 
 ॐ  जय  जगदीश  हरे

तुम  करुना  ke सागर  | तुम  पालन  करता 
 स्वामी  तुम  पालन  करता | मैं  मूरख  खालाखामी 
 मैं  सेवक  तुम  स्वामी  | कृपा करो  भरता 
 ॐ  जय  जगदीश  हरे

तुम  हो  एक  अगोचर  | सब  के  प्राण  पति 
 स्वामी  सब  के  प्राण  पति  | किस   विधि   मिलूँ  गोसाई 
 किस  विधि  मिलूँ  दयालु  | तुम  को  मैं  कुमति 
 ॐ  जय  जगदीश  हरे

दीन  बंधू  दुःख  हरता  | ठाकुर  तुम  मेरे
 Swami ठाकुर  तुम  मेरे  | अपने  हाथ  उठाओ 
 अपनी  शरनी  lagao | द्वार  परा   हूँ  तेरे 
 ॐ  जय  जगदीश  हरे

विषय  विकार  मिटावो  | पाप  हरो  देवा
 स्वामी  पाप  हरो  देवा  | श्रधा  भक्ति  बारहों  
 श्रधा  भक्ति  बढ़ाओ  | संतान  की  सेवा 
 ॐ  जय  जगदीश  हरे

 

Click here to listen Aarti:  Om jai jagdish hare

Home